सहजन की पत्तियों को खाने से होगा वजन कम।

सहजन की पत्तियों को खाने से होगा वजन कम – Eating drumstick leaves will reduce weight.

सहजन लम्बी फलियों वाली एक सब्जी का पेड़ है, जोकि दुनिया भर में उगाया जाता है । भारत मोरिंगा का सबसे बड़ा उत्पादक है । सहजन को अंग्रेजी में Moringa (मोरिंगा) या Drumstick tree कहते हैं । इसके फली से बनी सब्जी का स्वाद लगभग सभी को पसंद है। फलियों के साथ इसके पत्ते और फूल का भी इस्तेमाल खाने के लिए किया जाता है। कई तरह के पोषक तत्व, खनिज पदार्थ और विटामिन्स से भरपूर सहजन को सूपरफूड भी कहा जाता है । तो जान लेते है इसके पत्ते खाने से क्या लाभ होते है ।

डायबिटीज में है लाभकारी

मधुमेह के रोगियों में किये गए विभिन्न अध्ययनों में सहजन के पत्ते रक्त शर्करा स्तर कम करने में प्रभावी पाए गए है | मोरिंगा में स्थित आइसोथियोसाइनेट्स जैसे यौगिक वजन कम करने, ग्लूकोज टॉलरेंस और इंसुलिन सिग्नलिंग में सुधार करने में मदत कर सकते हैं | मोरिंगा रक्त में शर्करा की मात्रा को कम करने के साथ ही मूत्र में ग्लूकोज और प्रोटीन को कम कर मधुमेह के इलाज में मदत करता है।

बनाये हड्डियां मजबूत

सहजन कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे हड्डियों के लिए जरूरी पोषक तत्वों का अच्छा स्रोत है | इसलिए सहजन की पत्तिंया हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए उपयुक्त है |

घटाए मोटापा

सहजन में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) और फॉस्फोरस शरीर की अतिरिक्त कैलोरी को कम करके मोटापे या वजन की परेशानी से लड़ने में मदत करता है | सहजन शरीर का चयापचय बढ़ाकर फैट बर्न करने में मदत करता है |आप इसे एक स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थ के रूप में अपने आहार में शामिल कर सकते हैं|

कम करे कैंसर की जोखिम

सहजन की पत्तियाों में पॉलीफेनोल्स (Polyphenols) और पॉलीफ्लोनोइड्स (Polyflavonoids) भरपूर मात्रा में मौजूद होते है | अपने एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-कैंसर गुणों के कारण यह कैंसर जैसी घातक बीमारी के जोखिम को कम करने में मदत कर सकते हैं |

मनोविकारों में लाभदायी

सहजन को अवसाद, चिंता और थकान के इलाज में मदतगार माना जाता है।

रखे हृदय को स्वस्थ

सहजन की पत्तियों में उच्च मात्रा में मौजूद बीटा कैरोटीन (β carotene) जैसे एंटीऑक्सीडेंट हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक है | सहजन के पत्ते कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने में भी उपयुक्त पाए गए है |

सहजन के साबुत पत्तों का या रस निकालकर या सुखाके पाउडर बनाकर इस्तमाल किया जा सकता है

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay in Touch

To follow the best weight loss journeys, success stories and inspirational interviews with the industry's top coaches and specialists. Start changing your life today!

Related Articles