4 आम सेक्शुअल समस्याओं के आयुर्वेदिक समाधान, जिन पर खुल कर बात नहीं करते लोग

सेक्शुअल समस्याओं

मैरिड कपल्स के बीच सेक्शुअल प्रॉब्लम्स यानि कि यौन समस्याएं होना बहुत ही आम है लेकिन इन परेशानियों के बारे में खुल कर बात ना करना मूल समस्या से कहीं ज़्यादा बड़ी समस्या है। कपल्स अक्सर आपस में ही इन मुद्दों पर बात करने से कतराते हैं तो काउंसेलिंग या मेडिकल हेल्प तो भूल हू जाइए। इसका परिणाम ये होता है कि इन समस्याओं के निदान के लिए इधर-उधर झांकते हैं तो कभी किसी के अधकचरे ज्ञान से उसे सही करने की कोशिशों में जुटे रहते हैं।

आंकड़ों पर गौर करे तो हमें पता चलेगा कि यौन रोग बेहद आम है। 30 प्रतिशत पुरुषों और 40 प्रतिशत महिलाओं में किसी ना किसी तरह की यौन समस्या पाई ही जाती है। इसका समाधान बंद दरवाज़ों के पीछे गुपचुप तरीके से कभी नहीं मिल सकता। इसके लिए रोगी को खुलकर आगे आना होगा। इस तरह की ज़्यादातर समस्याओं के समाधान आयुर्वेद में भी पाए जाते हैं जिनका इस्तेमाल सदियों से किया जा रहा है और इनके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं होते हैं। आयुर्वेदिक एक्सपर्ट वैद्य शकुंतला देवी ने ऐसी ही कुछ आम परेशानियों के उपाय हमारे साथ साझा किए।

4 आम सेक्शुअल समस्याओं के आयुर्वेदिक समाधान

1. पुरुषों में बांझपन

ये परेशानी शुक्राणुओं यानि कि स्पर्म की कम संख्या या स्पर्म के कम एक्टिव होने के कारण होती है, जिसकी वजह से स्पर्म फीमेल एग्स को फर्टिलाइज़ नहीं कर पाता है और बच्चा पैदा करने में समस्या का सामना करना पड़ता है। आयुर्वेद में पुरूष बांझपन का स्थाई उपचार उपलब्ध है। आयुर्वेद में ऐसी हर्बल औषधियां हैं जो पुरूष के वीर्य में सुधार करके उनकी प्रजनन क्षमता को बढ़ाती हैं।

पुरुषों में बांझपन की उपाय

उपाय – अश्वगंधा पाउडर, शतावरी पाउडर, सफेद मूसली पाउडर, काली मूसली पाउडर, कौच बीज पाउडर और आंवला पाउडर बराबर मात्रा में मिलाएं। इस मिश्रण को रोजाना 10 ग्राम, रात को दूध के साथ सेवन करें। आपको जल्द ही लाभ दिखना शुरू हो जाएगा।

2. शीघ्रपतन

शीघ्रपतन यानि कि प्रीमैच्योर इजैक्युलेशन की समस्या का सामना कई पुरुष करते हैं। इस समस्या में पुरुष की इच्छा के विरुद्ध उसका वीर्य अचानक स्खलित हो जाता है या फिर अपने वीर्यपात पर उसका कोई कंट्रोल नहीं होता है। ये वैसे तो एक विकार है जो किसी रोग के अंतर्गत नहीं आता है, लेकिन अगर समय पर इसका इलाज न किया जाए तो ये बड़ी समस्या बन सकता है।

वैसे तो यह समस्या आमतौर पर पुरुषों में ही होती है लेकिन आज कल बहुत सी महिलाएं भी इसका सामना कर रही हैं। ये समस्या मानसिक और शारीरिक कमजोरी के कारण भी होती है।

आयुर्वेद के अनुसार, इस प्रकार की समस्या उन पुरुषों में होती है जिनके शरीर में ज़्यादा गर्मी होती है। इसलिए, इस बीमारी को ठीक करने के लिए, खानपान में बदलाव की सलाह दी जाती है। नमक, चाय, कॉफी और मसालेदार भोजन से परहेज करना इसमें सहायक साबित हो सकता है। ये सभी चीज़ें शरीर की गर्मी को बढ़ाते हैं। इसकी जगह दही, पुदीना और धनिया की चटनी जैसी चीज़ें खाएं जो शरीर को ठंडा रखती हैं।

शीघ्रपतन की उपाय

उपाय – 20 मिलीलीटर उशीरसव सुबह और शाम को खाने के 15 मिनट बाद बराबर मात्रा में पानी के साथ ले सकते हैं। चंद्रप्रभा वटी, गोक्षुरादि गुग्गुल की दो गोलियां खाना खाने के 30 मिनट बाद पानी के साथ लें।

3. कामेच्छा की कमी

कामेच्छा की कमी को अक्सर शादीशुदा ज़िंदगी में आए ठहराव या शादी के कुछ सालों बाद होने वाली बोरियत से जोड़ने लगते हैं। जबकि इसका मुख्य कारण है खान-पान में पोषक तत्वों का न होना, नींद न पूरी होना, शराब या धुम्रपान की लत आदि। रीसर्च में पाया गया है कि किसी भी पुरूष की यौन इच्छा एक समान नहीं होती है। पुरुषों में कामेच्छा की कमी होने से अनेक तरह के यौन समस्या का जोखिम बनने लगता है।

इसके अलावा वैवाहिक जीवन में दरार पड़ने का भी खतरा रहता है। सेक्स ड्राइव या सेक्स करने की इच्छा में कमी अक्सर पुरुषों को शर्मिंदगी और परेशानी लगती है इसलिए वे दूसरों से इस बारे में खुलकर बात नहीं कर पाते है। मगर भविष्य में दूसरी परेशानियों से बचने के लिए पुरुषों को कामेच्छा की कमी होने पर चिकित्सक से खुलकर बात करनी चाहिए। ताकि वो आपको सही परामर्श दे सकें।

सेक्स ड्राइव में कमी पुरुषों और महिलाओं दोनों में एक आम समस्या है इसलिए इसका आयुर्वेदिक उपचार भी दोनों के लिए लगभग समान है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि सेक्स ड्राइव में कमी के दो कारण हैं – पहला है तनाव, चिंता और बिज़ी लाइफस्टाइल और दूसरा है शारीरिक कमजोरी

कामेच्छा की कमी की उपाय

उपाय – पहले मामले में रोगी को 2 ग्राम ब्राह्मी चूर्ण सुबह और 2 ग्राम शाम को खाली पेट दूध के साथ लेना चाहिए।
दूसरी स्थिति में उन्हें रात को सोते समय 1 चम्मच त्रिफलाघृत दूध के साथ लेना होगा।

4. महिला बांझपन

महिलाओं में बांझपन एक आम समस्या है लेकिन इसका इलाज ‘शतावरी’ नाम की जादुई दवा से किया जा सकता है। प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के अलावा, ये मेंटल और फिज़िकल स्ट्रेस को कम करने में भी प्रभावी साबित हुआ है जो आमतौर पर महिलाओं की फर्टिलिटी और रीप्रोडक्टिव हेल्थ को प्रभावित कर सकता है।

महिला बांझपन की उपाय

उपाय – जो महिलाएं इनफर्टिलिटी से जूझ रही हैं, वे रोजाना 2 शतावरी कैप्सूल, गर्म मसाले वाले दूध के साथ सेवन कर अपना इलाज शुरू कर सकती हैं।
नोट: इनमें से कोई भी उपाय या विचार लेखक के खुद के नहीं हैं और आयुर्वेदिक एक्सपर्ट के सौजन्य से प्राप्त हैं। कोई भी उपाय या नुस्खा आजमाने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श ज़रूर करें। अगर आपका कोई अन्य इलाज चल रहा है तो उसके साथ ये उपाय ना करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *